Parvati Chalisa in Hindi | पार्वती चालीसा

- Advertisement -

हिम नरेश की पुत्री एवं भगवान शिव की पत्नी मां पार्वती के अनेकों नाम जैसे गौरा, गौरी, उमा प्रसिद्ध है. मां पार्वती को प्रकृति की देवी भी कहा जाता है. इस लेख में मां पार्वती चालीसा लिरिक्स (Parvati Chalisa Lyrics) उपलब्ध है. भक्तजन उन्हें Parvati Chalisa की सहायता से याद कर सकते हैं.

पार्वती चालीसा का पाठ करने से आर्थिक, पारिवारिक एवं सामाजिक सभी प्रकार की परेशानी है दूर हो जाते हैं तो आइए Parvati Chalisa in Hindi का स्मरण करते हैं.

Parvati Chalisa in Hindi
Parvati Chalisa in Hindi

◊Parvati Chalisa in Hindi◊

♦दोहा♦

जय गिरी तनये दक्षजे शम्भू प्रिये गुणखानि।
गणपति जननी पार्वती अम्बे! शक्ति! भवानि॥

♦चौपाई♦

ब्रह्मा भेद न तुम्हरो पावे,
पंच बदन नित तुमको ध्यावे।

षड्मुख कहि न सकत यश तेरो,
सहसबदन श्रम करत घनेरो।।

तेऊ पार न पावत माता,
स्थित रक्षा लय हिय सजाता।

अधर प्रवाल सदृश अरुणारे,
अति कमनीय नयन कजरारे।।

ललित ललाट विलेपित केशर,
कुंकुंम अक्षत शोभा मनहर।

कनक बसन कंचुकि सजाए,
कटी मेखला दिव्य लहराए।।

कंठ मदार हार की शोभा,
जाहि देखि सहजहि मन लोभा।

बालारुण अनंत छबि धारी,
आभूषण की शोभा प्यारी।।

नाना रत्न जड़ित सिंहासन,
तापर राजति हरि चतुरानन।

इन्द्रादिक परिवार पूजित,
जग मृग नाग यक्ष रव कूजित।।

गिर कैलास निवासिनी जय जय,
कोटिक प्रभा विकासिनी जय जय।

त्रिभुवन सकल कुटुंब तिहारी,
अणु अणु महं तुम्हारी उजियारी।।

हैं महेश प्राणेश तुम्हारे,
त्रिभुवन के जो नित रखवारे।

उनसो पति तुम प्राप्त कीन्ह जब,
सुकृत पुरातन उदित भए तब।।

बूढ़ा बैल सवारी जिनकी,
महिमा का गावे कोउ तिनकी।

सदा श्मशान बिहारी शंकर,
आभूषण हैं भुजंग भयंकर।।

कण्ठ हलाहल को छबि छायी,
नीलकण्ठ की पदवी पायी।

देव मगन के हित अस किन्हो,
विष लै आपु तिनहि अमि दिन्हो।।

ताकी, तुम पत्नी छवि धारिणी,
दुरित विदारिणी मंगल कारिणी।

देखि परम सौंदर्य तिहारो,
त्रिभुवन चकित बनावन हारो।।

भय भीता सो माता गंगा,
लज्जा मय है सलिल तरंगा।

सौत समान शम्भू पहआयी,
विष्णु पदाब्ज छोड़ि सो धायी।।

तेहि कों कमल बदन मुरझायो,
लखी सत्वर शिव शीश चढ़ायो।

नित्यानंद करी बरदायिनी,
अभय भक्त कर नित अनपायिनी।।

अखिल पाप त्रयताप निकन्दिनी,
माहेश्वरी, हिमालय नन्दिनी।

काशी पुरी सदा मन भायी,
सिद्ध पीठ तेहि आपु बनायी।।

भगवती प्रतिदिन भिक्षा दात्री,
कृपा प्रमोद सनेह विधात्री।

रिपुक्षय कारिणी जय जय अम्बे,
वाचा सिद्ध करि अवलम्बे।।

गौरी उमा शंकरी काली,
अन्नपूर्णा जग प्रतिपाली।

सब जन की ईश्वरी भगवती,
पतिप्राणा परमेश्वरी सती।।

तुमने कठिन तपस्या कीनी,
नारद सों जब शिक्षा लीनी।

अन्न न नीर न वायु अहारा,
अस्थि मात्रतन भयउ तुम्हारा।।

पत्र घास को खाद्य न भायउ,
उमा नाम तब तुमने पायउ।

तप बिलोकी ऋषि सात पधारे,
लगे डिगावन डिगी न हारे।।

तब तव जय जय जय उच्चारेउ,
सप्तऋषि, निज गेह सिद्धारेउ।

सुर विधि विष्णु पास तब आए,
वर देने के वचन सुनाए।।

मांगे उमा वर पति तुम तिनसों,
चाहत जग त्रिभुवन निधि जिनसों।

एवमस्तु कही ते दोऊ गए,
सुफल मनोरथ तुमने लए।।

करि विवाह शिव सों भामा,
पुनः कहाई हर की बामा।

जो पढ़िहै जन यह चालीसा,
धन जन सुख देइहै तेहि ईसा।।

♦दोहा♦

कूटि चंद्रिका सुभग शिर, जयति जयति सुख खा‍नि
पार्वती निज भक्त हित, रहहु सदा वरदानि।


यह भी पढ़ें:

श्री हनुमान चालीसा श्री दुर्गा चालीसा श्री शनि चालीसा
श्री शिव चालीसा श्री गणेश चालीसा श्री कुबेर चालीसा
श्री सूर्य चालीसा श्री लक्ष्मी चालीसा श्री राधा चालीसा
श्री सरस्वती चालीसा श्री विष्णु चालीसा श्री नवग्रह चालीसा
श्री बगलामुखी चालीसा श्री कृष्ण चालीसा श्री गायत्री चालीसा
श्री काली चालीसा श्री संतोषी चालीसा श्री श्याम चालीसा
श्री राम चालीसा श्री पार्वती चालीसा श्री भैरव चालीसा
श्री विन्ध्येश्वरी चालीसा श्री ललिता चालीसा मां चिंतपूर्णी चालीसा

 

- Advertisement -
Editorial Teamhttps://multi-knowledge.com
आप सभी पाठकों का हमारे ब्लॉग पर स्वागत है। Editorial Team लेखकों का एक समूह है; जो इस ब्लॉग पर पाठकों के लिए महत्वपूर्ण और जानकारी से भरपूर नए लेख अपडेट करता रहता है। मल्टी नॉलेज टीम का उद्देश्य डिजिटल इंडिया के तहत प्रत्येक विषय की जानकारी उपभोक्ताओं तक मातृभाषा हिंदी में सर्वप्रथम उपलब्ध कराना है। हमारी टीम द्वारा लिखे गए लेख पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद।

Related Post

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

error: Protected
close button